जिंदगी में धीरे चलो तो संभव है, मंजिल पर पहुंच जाओगे

आराम से। यह शब्‍द इस समय जितने संकट में इस समय हैं, उतने कभी नहीं थे। कोई भी धीरे चलने को तैयार नहीं। ऐसा

Read more

अनुभवों से बदलें आदतें

राधेश्याम रघुवंशी ऑफिस में कैसा आचरण होना चाहिए, बड़ों से कैसे बात करनी चाहिए, परिवार में बर्ताव कैसा होना चाहिए…ऐसी बहुत-सी अच्छी बातों से

Read more

समाज और परिवार के लोगों की जागरुकता से रुक सकती है आत्महत्याएँ

-संदीप सृजन सुशांतसिंह यह नाम हर जुंबा पर है। शायद जो लोग उस प्रतिभा सम्पन्न लड़के को पहले नहीं जानते थे। वे भी आत्महत्या

Read more

पर्यावरण पर लॉकडाउन के पड़े है सकारात्मक प्रभाव

-संदीप सृजन पर्यावरण की चिंता करने वाले और उसे लेकर अपने स्तर पर लगातार प्रयास करने वाले लोगों और संस्थाओं के लिए विश्व पर्यावरण

Read more

कोरोना से डरो ना, करोना को इंजाय करो ना

व्यंग्य हेमंत उपाध्याय पत्नी बोली – कोरोना से डरोना, कोरोना को इंजाय करोना। पति बोला- भाग्यवान! सारा विश्व डर रहा है। सदमे में है

Read more

डिजिटल मिडिया के लिए विश्वसनीयता बड़ी चुनौती

-संदीप सृजन कोराना के कारण हुए देशव्यापी लॉकडाउन से अन्य व्यवसायों की तरह प्रिंट मीडिया भी इन दिनों संकट से जूझ रहा है। तमाम

Read more